(1\/८ [२८ |= [२/२ (ॐ

0८1 18459

८९९ ४९६ | 1४७८ /\॥1\[)

सिधी जेन मन्थमाखा

य्रम्थाङ्क ९॥ 4५

भतावदहा्लार तः] 2 |

(2 72. 1} 1}11411111111016 111 ।11111,\11 111

9.2 ऊ. चक. क. ङः ०1 ~. 11111111111111}:

श्रीमेरतुद्भाचायविरचित

प्रवन्धचिन्तामणि

सिंघी जेन मन्थमाा

जैन भागमिकं, दाश्चनिक, साहिष्यिक, पेति्टासिक, कथाव्मक-दश्यादि षिधिधविषयगुरिफित भ्राङ्त, संस्कृत, भप, प्राचीनगूञर, राजस्थानी भादि भाषानिवद्ध कहू उपयुक्त पुरातनवख्छय सथा मवीन संशोधनास्मक सारिस्यप्रकाशिनी जैम भ्रन्थावरि

कठकतानिवासी सगय श्रीमद्‌ डाठचन्दजी सिंघी की पष्यतिनिमिच तदीयुपुत्र श्रीमान्‌ बहादुरसिहजी सिंघी द्वारा संखापित

मुख्य सम्पादक

जिनविजय मुनि अधिष्ठाता, संधी जेन ज्ञानपीठ. चान्तिनिकेतन

यन्थाक

प्रापिस्थान संचालक, सिधी जेन यन्थमाला. शान्तिनिकेतन, बगाल.

स्थापनाब्द ] सर्वाधिकार संरक्षित. [विण सं° १९८७

श्रीमेस्तुङ्चार्यविरचित प्रबन्धचिन्तामणि

विविधपाटान्तरयुक्त मुरग्रन्थ; वस्सम्बह् अनेके पुरातनप्रबन्ध; सिलारेख, ताप्नपत्र, भन्थप्रदासि, तथा म्रन्थान्तरस्थ विविधप्रमाणः; हिन्दी भाषान्तरः; तत्काङीन पेतिहासिक, भोगोखिक, राजकीय, सामाजिक, धार्मिक आदि परिस्थिति बिवेचक विस्तृत भरस्तावना-दल्यादि बहुविधविषयसमन्वित

सम्पादक

जिनविजय मुनि

जेनवाद्मयाध्यापक, विभ्व भारती.

चान्तिनिकेतन

प्रथम नाग

विविधपाठान्तर-परिरिष्ट-पयानुक्रमादियुक्त मूखयन्थ

नर कपपक

प्रकाद्राक

अधिष्ठाता, सिंघी जेन ज्ञानपीठ. रान्तिनिकेतन, बंगा.

विक्रमाब्दु १९८९ ] प्रथमावृत्ति, एक सष प्रति. [ १९३३ किष्टाम्व्‌

अविला व^ 30४5

(0८८ 7(@वथ 0 27/4८ 22/17/2075 0 4057 15027447 4.07 1८47., 17.0505/47747., (57014 (८, {177१4 ८, 41२471८6 €. ५(०0व्र 5 05 441४4 117२47८१ [§+। १९46८९२८, 54 7४4 5 व्र (7, 4 5.4.551 २.4 14 54 474 2 (2 ८.९४ 4 ^~ {45 {74 (7455, 4462 577/(2/75 ® (04522 £ 5 4 (7 <+ 01 4९5.

39196 ,0 91229, 384

5577112 3 6127 3 पलप्पा पलत 075 ^. तषि 7190 07 07 1.02 26045 877 7.^7,0^ परवा 81 पदप.

(म्प्र ८51. ८0170

पदि वव भरि

4 एषपइत्प.5 5: 8पठक्रद दत उत. 6 8,

६2 गणा 11र८6 घ.

चि 5८.71

70 8८ ॥५० (लछम 59 0॥ ॥॥९॥, =1 ४७11 -१।४॥ © १५१ 8611१1१7 ।६. (०६९९. )

०४पर्वन्वं 1 47८ %2(11\15 7८७८१४९९ - { 2931. ^. 7.

# 9-91-4. 11/16 - 610, 6-9,/0. 911

81 1/ 41 11

८९71-4 777 (त्व 1 ०२64८. 54 5/7 \^८(714 (4475; 57749 2 527{7.4 (र 274 54 चि 27 45; (0 570 ८2 179 > & 516२4 1 147. १२ ८02१२25 47 2२2२5 {त वतक 0 व्र ५८0२3; तरतव 27 1२4 ४504770 47) 0775 4 क्च 145307२4 412, (२7774. 42 775701२7.

72077770 76.

-84

नि^ भव+ ^ तधा

3 7लघ् 505८8807, 0" 24 पर 6 @णः्नए 7 8.96 6

[-7 ९.1 ५१.२९.००,.९.॥0

+ +9. ४१ 2" 1 34 ऽप्य ४4 रा ल, ^ 422८ ^ च> [बऽ 0 ^ चऽ

#४७०।15१६0 छत वाह चणा 0) उदिता जन्निन्र॥ = 8१४१714 डतरा १३. (छटक्छद्ा ) |

छ. 2. 1989 1 ८1181 ९५१४1012, 2४८ 7/1 ०२८५८17 (2९९5. { 1933 4. 7.

प्रषन्धचिन्तामणि षते संकलना

दस भ्रन्थका संकलन ओर भरकाङान निन्न प्रकार, भार्गेमिं, पूणे होगा

(१) प्रथम भाग. भिन्न भिन्न प्रतियोके जलाधार पर संशोधित-विषिध पाठान्तर समचेत-मूलग्रन्थ; परििष्ट; मूरग्रन्थ आर

परिशिष्टमें शये हुये संस्कत, प्राङृत ओर अपश्च भाषामय प्योकी भकारादिक्रमानुसार सूचि; पाठ संशोध- नके लिये काममें खाद गदर पुरातन प्रतियोँका सचित्र वणन

(२) द्वितीय भाग. प्रबन्धविन्तामणिगत प्रबन्धोके साथ सम्बन्ध भौर समानता रखनेवाले अनेकानेक पुरातन प्रवन्धोंका संग्रह;

पथानुकमसूचि; विरोष नामानुक्म; संक्षि प्रस्तावना खीर प्रबन्ध संग्रहोकी मुरू भतियोंका सधित्र परिचय

(२) ठृतीय भाग. पहले ओर वुसरे भागका संपूण हिंदी भाषान्तर (४) चतुर्थं भाग. प्रबन्धचिन्तामणिवर्णित भ्यक्तियोके साथ सम्बन्ध रखनेवाखे रिालेख, ताच्नपत्न, पुस्तकप्रशस्ति आदि जितने

समकालीन साधन ओर रेति प्रमाण उपरग्ध होते हैँ उनका एकत्र संग्रह भर तस्परिचायक उपयुक्त विस्तृत विवेचन; प्राक्कालीन पश्वाव्काठीन अन्यान्य ग्रन्थोमे उपकढ्ध प्रमाणभूत प्रकरणों, उद्धेखों भौर अवतरणोका संग्रह; कु रिरारेख, ताग्रपत्र नीर प्राचीन ताडप्रोके चित्र

(५) पञ्चम भाग. भ्रबन्धचिन्तामणिग्रयित सब बातोंका विवेचन करनेवाली विस्तृत प्रस्ावना-जिसर्मे तव्कालीन रपेतिहासिक,

भौगोखिक, सामाजिक, धार्मेक ओर राजकीय परिस्थितिका सविरोष ऊहापोह ओर सिष्टावरोकन किया- जायगा भनेक प्राचीन मदिर, मूर्तियां इष्यादिके चित्र भी दिये जार्यैगे

----<=><..2“>-----~

गप ऽ0प्र् 07 (पए प्रणम 07 ८.4.84 प्रप्त ^ ल्ग ^ प्रा

2९7४ 1.

{ 776 रणा का 96 ९०ण16६6त्‌ आ) 0४6 ए108. ]

9. 010९५] = पएवाप्मगा गट व€् पा उद्ञता6 ऋाण) रका १6९६4०8 08864 गा 11089 पलमण० 58; 411 ^ एएल्ावाह्; 9 भाशफन्टह [तहर भा इन्त, लिद्मप्ा४ भत्‌ 4 षणााछा]18* 8 ४९868 ०८८ 10 16 ६6६६ कत्‌ ५06 भएएव्णताञ; जा [््ठवपलला 10 रपत्‌ तल्ला ८6 2488. पत्‌ फरल भ्‌ऽ परत्व 0 [नष ४16 {6४ 810 1६1 [014४68.

28५ 1. 4 वनालन प्ोथाङ़ जत्‌ 79 एषात028 आहा ४0 81810द्टुकपड (0 6 ्ाद्ला 70

14290

119 >810&7व्‌]1रसा६द11191; = 1०पा८७७ धौठ रलाऽ€ञ भात्‌ [णु 09168; 4 8110710 प्ठवपलला 10 प्ापवा वल्ल ४16 88. भात्‌ ादलाा२]8 प$न्व्‌ 70 एणनक्षपणह् ध18 ५४४, 8101 (शाण [1५६65.

6 (0प])16४८ पतापत वाथकध्०ा 41४8 [ बात 711,

811 1५. ^ वणााल्न्प्रम नुण््ाःवाा००्‌ ए6्व्नावड, ४४४. 5६ना€ 178लएनिता8, ९0 [018४68, ००1८-

एत #.

काप्गा३ शात्‌ ए८83द3ऽ पणि #9 व्गाष्टणणृगनमःफ 2188; 9 दजम]र०6 = ॥18०तन््‌ १६४३ १९४५111४ ए16्‌। ४€ नञजया३ वृल्ड्याःल्व्‌ ता कर्षटिकत्व्‌ 0 धल 50 वातप पा्प्रा ६1008 कात 8 लावा भव्व्म्पा 7 णवा ध16 800९6, 88 8180 पादक 1018068, छात्‌ २५ व्नाल्लणय हप्ाना(ढपर० र्वयिलाद्6इ कपत्‌ व्जद्रगा8§ प्रिमा छाल कणयर8,

-क& 7 नदएता€ हिलाल] [द्ठवप्लान उपाकक्द्ठ पीपल [पथणयन्छ]ा 6०८, 800 एगारह 8०१ प्लह्ार्णड व्णावा्रमणऽ ४१०६ [ल<पाण्व ; रा [12668,

आदावुन्मीरितं येन ज्ञानचक्षुमदीयकम्‌ देवीहंसगुरोस्तस्य स्मृतये इदमप्यंते

१. विक्रमाकषबन्धाः

+

८९.

प्रवन्धचिन्तमणिग्रन्थगतप्रबन्धानाम्‌

अनुक्रमणिका

प्रयमः बकाः

एफ० ९-१० रोहणाचरुगमनवृत्तान्त-साभ्राज्यप्राक्चिः १-३

कालिदासोत्पत्तिप्रबन्धः २-५ सुवर्णपुरुषसिद्धिप्रन्धः. - विक्रमादित्यसश्वप्रबन्धः सक्वपरीक्षाप्रबन्धः & विदयासिद्धिप्रबन्धः + & सिद्धसेनघरिसमागमवर्णनम्‌ ... पृथिन्या अनृणीकरणव्त्तम्‌ [ पृथ्वीरसप्रबन्धः ] विक्रमाकैनिगेर्वताप्रबन्धः ९, विक्रमाकेमत्युद्रतान्तम्‌ १० सातवाह्‌नग्रकवन्धः १०-१९१ . शीखन्रते भूयराजघवन्धः ११ वनराजादिप्रबन्धः १२१८ चापोत्कटवंश्चावलिः १४-१५ मूटराजप्रवन्धः १५--२९ मूरराज-सपादलक्षीयनृपयुद्धब्रतम्‌ १६-१७ कन्थडितापसष्त्तान्तम्‌ ... .-. १८ लाखाकोत्पत्ति-विपत्तिप्रबन्धः . .. १९ मूरराजान्वयविचारः -.. २० . मुञ्जराजपरवन्धः २१-२५ मुञ्जराजजन्मश्रत्तम्‌ २९१ सिन्धुलयृपवर्णनम्‌ २१ भोजजन्मादिइततान्तम्‌ २२ ज्ञ-तेरपदेवयुद्धइत्तम्‌ २२ रज्ञकारागारदशावर्णनम्‌ २२

प्रबन्ध

५9.

हितीयः प्रकाराः भोज-भीमपवन्धः

२९५-4२ भोजदानशृतान्तानि २५-२९ भोज-भीमविरोघश्चान्तम्‌ ३०-३४ माघपण्डितप्रबन्धः ३०-३६ धनपारपण्डितप्रबन्धः ... ३६-४२ शीतापण्डिताप्रबन्धः ४२-४३ मयूर-बाण-मानतुङ्गाचायप्रबन्ध;ः ४०-४५ पणद्वी-गोपयोः प्रबन्धः ४५-७६ अनित्यताश्छोकचतुष्टयप्रबन्धः . . ४६ वस्तु चतुष्टयग्रबन्धः ४७ बीजपूरक प्रबन्धः ४७ (एको भव्यः, प्रबन्धः ४८ दक्षरसम्रन्धः . .- ४८ अश्ववारप्रबन्धः... ४८ गोपगरहिणीप्रबन्धः ४९ कर्णनूपतिव्णंनम्‌ ५० भोजग्रत्युवर्णनम्‌ 1 ५१

तृतीयः प्रकाशः

. सिद्धराजादिभ्रबन्धः ५६-७६ भीमदेवपुत्रमूलराजद्ृत्तम्‌ ५, ५३ कर्णनृपतिमयणष्छदेवीवर्णनम्‌ . - ५४ जयसिहदेवजन्मक्रथनम्‌ धषु लीखावेदयप्रबन्धः. .. ५६ मत्रिसान्तुद्टधर्मताप्रबन्धः ५७ . मयणद्छदेबीयात्रावर्ण॑नम्‌ ५८ जयसिंहदेवशृतधारायुद्धवर्णनम्‌ ५९ जयर्सिहदेव-देमसरिसमागमः .-. ६०

जयसिंहस्य सद्रमहदाकारप्रासरादकरणम्‌ ६१

प्रषन्धचिन्तामणि

सहस्लिङ्गसरोबरकरणम्‌ .“- ६२-६४ जयरसिंह-नवघणयुद्धश्तम्‌ -- ६५ वूनरदेन्या वाक्यानि -.- -“ ६५ रेवतकोद्धारबन्धः -- ६५ जय सिंहस्य शत्रुञ्जययात्रा ६६ देवघ्रिचरितम्‌ ... ... ... ६६-६९ वसाह आमडयप्रबन्धः ..- --- ७० सर्वद्ीनमान्यताप्रबन्धः .-. ७० चणकविक्रयिवणिजः प्रबन्धः . ७१ पोटश्चशक्षप्रसादप्रबन्धः ७१ वाराहीयघूचप्रबन्धः .*. -*" ७१ उञ्ज्ावास्तव्यग्रामणीनां प्रबन्धः ७२ माङ्धग्रबन्धः ..- -.- .. ७२ म्लेच्छागमनिषेधप्रबन्धः `. ७३ कोष्टापुरप्रबन्धः 2 ७३ कौतुकीसीलणप्रयन्धः ... .- ७४ जयचन्द्ररज्ञा सम गृजेरप्रधान- सयोक्तिप्रद्युक्तिग्रबन्धः .-. ७४ पापधरप्रमन्धः -.. -.. .* ५५ सान्तुमनिनबुद्धिप्रचन्धः -.- ^ ७५ वण्टक्र्मप्राधान्यप्रबन्धः..- -- ७५ जयिदस्ततिश्टोकाः ४. ^ ७६

चतुथः प्रकाराः ~ कुमारपाखादि प्रबन्धः ७.७-९८

कुमारपारपूर्वजकथनम्‌ --- --. ७७ सिद्धराजढृतकदर्थनावर्णनम्‌ .. ७८ कुमारपारराज्यप्रापिः -.. -- ७८ कुमारपाक-अर्णोराजयुद्धव्णनम्‌ ७९ चाहडङुमारग्रबन्धः .-- -. ८० पकारसोराक्रपरबन्धः -.- ८० जआम्बटप्रबन्धः ... .-- .-- ; ८१ कुमारपार देमघ्रिसमागमवर्णंनम्‌ ८२

हेमप्रिविसिम्‌ ..- -- ~“ ८३

हेमष्ठरिदर्शितं $मारपालय सोमे-

श्वरदेवभ्रात्यक्ष्यम्‌ .., ८४-८५ §मारपालसख जेनधमोङ्गीकरणम्‌ ८६ मन्निवाहडकारितशधुञ्योद्धारम्रबन्धः ८७ राजपितामह आम्नभटप्रबन्धः ... ८८ ुमारपराध्ययनप्रबन्धः ८९ हरडषप्रबन्धः ..- ... ~. ८९ उर्वश्ीशब्दप्रबन्धः ... ~. ९० उदयचन्द्रप्रबन्धः .-- ~. ९० अमक्ष्यभक्षणप्रायथित्तप्रबन्धः . .. ९० यूकाविदारप्रबन्धः -- ९१ सालिगवसरि-उद्धारप्रबन्धः ... ९१ बहस्पतिप्रबन्धः 1 "9 ९१ आलिगप्रबन्धः ... ... ... ९१ षामरारिप्रबन्धः ९२ चारणयोः प्रबन्धः ... .- ९२ तीर्थयात्राधरवन्धः .-- ~. ९३ पुवर्णसिद्धिनिषेधप्रबन्धः .. ९३ राजघरट्टचाहडप्रबन्धः ... ९४ कुमारषालकथितल्वणप्रसादराण-

कप्रबन्धः ... ९४ हेमाचाय-कुमारपालयोमूत्युवर्णनम्‌ ९५ अजयदेवस् राज्योपविन्ननम्‌ ९६ मनिकपर्दिप्रबन्धः .-. -.. ९६ रामचन्द्रमरणप्रबन्धः ... -.. ९७ अजयदेवमरणव्णनम्‌ ... -. ९७ अजयदेवान्वयद्त्तम्‌ ... .-. ९७ वीरधवलवर्णनम्‌ --- -* ९८

१०. वस्तुपारु-तेजःपारप्रवन्धः ९८-१०५

वस्तुपाल-तेजःपालयोजेन्मादि-

वृत्तान्तम्‌ ... .- ** ९८-९९ रात्ुञ्ञयादितीथंयात्रावर्णनम्‌ ... १००-१०१ अबदगिरो विमलवसदिकास्यापनम्‌ १०१ दखसुमटेन सह युद्धकरणम्‌ ... १०२

शअरुक्मणिका

म्टेच्छपतिना सद मभ्रिणो मत्री १०३

अनुपमाया ओदा्यवर्णनम्‌ ... १०४ वीरधवल-रवणप्रसादयोः पश्च गरामसङ्कामवर्णनम्‌ ... --. १०४ अनुपमाया मरणे तेजःपारख शोकशत्तम्‌ कि १०५ वस्तुपारख भर्युदृ्तम्‌ ... .... १०५ पञ्चमः प्रकाराः

११. प्रकीणेकप्रचन्धः १०६-१२८ विक्रमपात्रपरीक्षाप्रबन्धः १०७ नन्दप्रबन्धः ... ... ... १०७ मष्टवादिप्रबन्धः ... .-. १०७ शिरादिल्योत्पत्ति-रङ्कोत्पत्ति-वल-

भीभङ्गप्रबन्धः .-. ^ १०८ पुञ्जराज-तत्पुत्री भ्रीमाताप्रबन्धः ११० गोवद्धननृपप्रबन्धः -.. - १११ पुम्यसारपरबन्धः १" १११ फर्मसारप्बन्धः ..- -. - ११२

११ ङष्मणसेन-उमापतिधरयोः प्रबन्धः ११३ जयचन्द्रपरबन्धः ११४ त्ङ्गसुभरग्रबन्धः ११७ परमर्दि-जगहेव-एथ्वीपतीनां प्रबन्धः ११८ कौङ्कणोत्पसिप्रबन्धः .... ११८ षराहमिदिरपरबन्धः 6 ११९ नागाञनोत्पत्ति-सतम्भनकतीथौव- तारप्रबन्धः ... १२० मवेह रि-उत्पत्तिग्रबन्धः . .. १२१ वेद्वाग्भटप्रबन्धः १२२ ेत्राधिपोत्पत्तिप्रबन्धः . .. १२३ वासनाप्रबन्धः ... १२३ कृपाणिकाप्रन्धः १२३ जिनपूजायां धनद प्रबन्धः १२४ ग्रन्थकारस्य प्रशस्तिः १२५ परिरिष्टम्‌-कुमारपाटस्य अहि साया विवाहसम्बन्धप्रबन्धः १२६-१२८ प्रन्धचिन्तामणेः पचालुक्रमणिका ... १२९- १३६

सिंधीजेनयन्थमाखासंस्थापकप्रदास्तिः

अस्ति ब्गामिधे देशे सुप्रसिद्धा मनोरमा सुरिीदाबाद इत्याख्या पुरी वैभवशारिनी निवसन्यनेके तत्र जेना उकेरवंश्षजाः धनाव्या नृपसद्या धर्मकर्मेपरायणाः श्रीडालचन्द इत्यासीत्‌ तेष्वेको बहुभाग्यवान्‌ साधुवत्‌ सच्चरित्र यः सिंषीकुटप्रभाकरः बाल्य एवागतो यो हि कर्तु व्यापारविस्तृतिम्‌ कलिकातामहापुया धृतधरमीथनिश्वयः कुशाग्रया खबुद्धधेव सदुत्या सुनिष्ठया उपार्ज्यं विपुखां रक्ष्मीं जातो कोटयधिपो हि सः तस्य मद्लकुमारीति सन्नारीकुटमण्डना पतिव्रता प्रिया जाता शीरसोभाग्यमूषणा श्रीवदादुरसिहाख्यः सट्रणी सुपुत्रस्तयोः अस्येष सुकृती दानी धर्मप्रियो धियां निधिः प्रप्ता पुण्यवताऽनेन प्रिया तिठकसुन्दरी तस्याः सोभाग्यदीपेन प्रदीपे यदहाङ्गणम्‌ श्रीमान्‌ राजेनद्र्चिहोऽस्ि य्येषटपुतरः सुरिक्षितः सः सर्वकारयदक्षतात्‌ बाह्यस्य हि दक्षिणः नरेन्द्रसिंह इत्यास्यस्तेजखी मध्यमः सुतः सूनुकषसेनरिदश्च कनिष्ठः सौम्यदर्नः सन्ति त्रयोऽपि सदयुत्रा आप्तमक्तिपरायणाः विनीताः सरसा भव्याः पितुमीगीनुगामिनः अन्येऽपि बहवश्ास सन्ति खक्षादिवान्धवाः धनै्जनैः समृद्धोऽयं ततो राजेव राजते अन्यच्च सरस्यां सदासक्तो भूत्वा रक्ष्मीप्रियोऽप्ययम्‌ तत्राप्येष सदाचारी तचित्रं विदुषां खट गवौ नाऽप्यहकारे विखसो दुष्कृतिः दश्यतेऽख गहे क्रापि सतां तद्‌ विस्मयास्दम्‌ भक्तो गुरुजनानां यो विनीतः सजनान्‌ प्रति बन्धुजनेऽयुरक्तोऽसि प्रीतः पोभ्यगणेष्वपि देश-काटस्थितिज्ञोऽयं विचया-विज्ञानपूजकः इतिहासादिसादिय-संस्करति-सत्कटाग्रियः समुन्नले समाजस्य भर्मस्योत्कर्पहेतवे प्रचारार्थं सुरिक्षाया व्ययदेप धनं धनम्‌ गता समा-समियादो मूत्वाऽध्यक्षपदाङ्कितः दत्वा दानं यथायोग्यं प्रोत्साहयति कर्म॑रन्‌ एवं धनेन देहेन ज्ञानेन शुभनिष्ठया करोययं यथाशक्ति सकर्माणि सदाशयः अथान्यदा प्रसङ्गेन खपितुः स्ृतिहेतवे कर्तुं किञ्चिद्‌ विशिष्टं यः कार्य मनस्चिन्तयत्‌ पूज्यः पिता सदेवासीत्‌ सम्यग्‌-ज्ञानरुचिः परम्‌ तस्मात्तज्ज्ञानवृद्धथ यतनीयं मया वरम्‌ विचार्येवं खयं चित्ते पुनः प्राप्य युसम्मतिम्‌ श्रद्धासदखमिच्राणां विदुषां चापि ताद्याम्‌ जेनज्ञानप्रसारा्थं थाने शान्तिनिकेतने सिंषीपदाङ्कितं जेनज्ञानपीरमतिष्टिपत्‌ श्रीजिनविजयो विज्ञो तस्याधिष्ठातृसतदम्‌ खीकरौ प्राथितोऽनेन ज्ञानोद्धाराभिलपिण। असख सोजन्य-सोहारद खेर्योदायादिसद्रणेः वीभूयाति सुदा येन खीकृतं तदं वरम्‌ यस्येव प्ररणां प्राप्य श्रीसिंधीकुलकेतुना खपितृश्रेयसे चेषा ग्रन्थमाला प्रकार्यते विद्रजनकृताहादा सचिदानन्ददा सदा चिरं नन्दतियं ठोके जिनविजयभारती

किञ्चित्‌ प्रास्ताविक

द्यबन्धविन्तामणि परन्थके बारेमे जितनी क्ञातव्य याते दँ उन सचका निर्देश, बहुत कुछ विस्तारे साथ, हम

आगेके भागोमिं-चौथे पांचवें भ्न्थमे-करना चाहते ईँ इस णिये यहां पर अन्य कोष बिशेष वातका उद्धे कर, सिफे इस प्रन्थकी प्रस्तुत आच्रृत्तिके जन्मका थोडासा पूर्वेतिदास बतलाना, ओर उसके साथ इस मन्थे, इतः पूर्व, जो संस्करण ओर भाषान्तर आदि हुए उनका परिचय देते हुए, जिन पुरातन हस्तछिखित पोधीयोका आश्रय लेकर हमने इसका संशोधन ओर सम्पादन किया उनका परिचय मात्र कराना आवश्यक समश्चते

प्रस्तुत आवचतिकी जन्मकथा.

प्रन्धचिन्तामणि जैसे एेतिदासिक महत्व रखनेवाले अनेक ्रन्थ, ओर रेसे ही उपयोगी अन्यान्य अगणिन रेति- दासिक साधन, जेन भण्डारोमें पडे पडे सड रहे है ठेकिन उनका टीक ठीक परिचय विद्टार्नोको भिल सकनक कारण वे अभी तकर प्रकाशमे नहीं आये इस वस्तुका खयाल हमें पाटणके पुरातन जैन भण्डारोका अवलोकन करते समय, आजसे कोर १८-२० वर्षं पहले हुआ विद्यमान जैन साधुसमूहमे जिस ज्ञाननिमम्न सिितप्रज्ञ मुनिमूर्तिका दशेन ओर चरणस्पशौ करनेसे हमारी इस रेतिदासिक जिक्ञासाका विकास हआ उस यथार्थं साधुपुरप-पूज्यपादं प्रवर्तक श्रीमत्कान्तिविजयजी महाराज-की वात्सल्यपूर्णं प्रेरणा पाकर हमने यथाबुद्धि इस विषयमे अपना अध्य- यन-अन्वेषण-संशोधन-सम्पादनादि कायै करना शुरू किया हमारा संकल्प हुआ कि जैन भण्डारेमिं इतिहासोपयोगी जितनी सामग्री उपरुब्ध हँ उसे खोज खोज कर दकट्री की जाय ओर आधुनिक विद्रन्मान्य पद्धतिसे उसका संशोधन ओर सम्पादन कर प्रकाडन करिया जाय हमारे इस संकल्पम, उक्त पूज्यवरके गुरभक्त ओर ज्ञानोपासक शिप्यव् श्रीमान्‌ चत्तुरविजयजी महाराज तथा प्ररिष्यवर श्रीमान्‌ पुण्यविजयजीकी सम्पूर्ण सदकारिता प्राप होने पर, हमने उन्हीं स्वाध्यायनिरत ज्ञानतपस्वी प्रवर्तकजीके पुण्यनामसे अकित-ग्रवर्त॑क श्रीकान्तिविजय जैन इतिहासमाला-नामक प्रन्थावलिका प्रारंभ किया ओर भावनगरकी श्री जैन आत्मानंद सभा द्वारा उसे प्रकारित करने ले विज्ञपितरिवेणी, कृपारसकोष, शतरंजयतीथोद्धारप्रबन्ध, जेन रेतिहासिक गूर्जर काव्यसंचय ओर प्राचीन जैनरेखसंग्रह इत्यादि मन्थ उस समय प्रकट हुए ओर विद्टानोनि उनका अपूर्वं पेतिदासिक महत्व समन्य कर उस प्रयनको खव सराहा

हमने अपना यह संशोधन कार्य, संवत्‌ १९७१-५७२ मे, जव हमारा निवास वडंदेमे था, प्रारंभ करिया था। उन्दीं दिनम, बडोदा राज्यकी ओरसे प्रकारित होने वाली (गायकवाडस्‌ ओरिणन्टट सीरीश्च' का प्रकाशन काय भी शुरू हुआ था उस सीरीश्चके उत्पादक स्वर्गीय साक्षररन श्रीचिमणटाट डाद्यामाई दलाल णम्‌. ए. हमारे घनिष मित्र थे पाटणके जैन भण्डाररोका व्यवसित पर्यवेक्षण करनेमे तथा उन भण्डारोमिसे अकभ्य-दुकभ्य म्रन्थोकी प्रापि करनेमे भाई दलाख्जीको जो यथेष्ट सुविधा मिली थी वह्‌ उन्त पूज्यप्रवर प्रवर्तकजी ही की सुकपाका फट था | इस छ्य उनका ओर हमारा एक प्रकारका सतीर्थं जैसा सम्बन्ध था समानशील ओर समव्यसनी होनेके कारण, वे प्रतिदिन घंटो, बडौदेके जेन उपाश्रयभे आकर वैठते-उठते ओर हम उनके ओर वे हमारे कार्यम सहयोग देते-छेते थे इस सहयोगके परिणामे, कितनेएक जैन एेतिदासिक म्रन्थ॒ ^गायकवाडस्‌ ओरिणन्टल सिरीघ्च' द्वारा भी प्रकट करनेका उन्होने निश्चय किया ओर उनर्मेसे, मोहराजपराजय नाटक का सम्पादन काय॑ उक्त पृज्यवरफे प्रधानरिष्य श्रीचतुरबिजयजी महाराजने, कुमारपाङ्प्रतिबोध नामक विशार प्राकृत म्रन्थका सम्पादन हमने ओर बसन्तविलास, ल्रनारायणानन्द, हम्मीरमदमदन आदि भरन्थोका सम्पादन कार्यं खयं दटाख्जीने अपने हारम छिया

ग्‌

नियमानुसार बडौदासे हमारा प्रस्थान हुआ ओर संकरिपत कामे विश्यं खङ्ता उत्पन्न हुई श्राचीनजैनरेखसंग्रह द्वितीय भाग,' छ@कुमारपारप्रतिबोध' ओर 'जैनरेतिहासिक गृजैरकाव्यसंचय' का जो काये अपूर्ण था वह्‌ तो किसी तरह पूरा किया गया लेकिन ओर विदोष काय कुछ दहो सका

उसी समय पूनाके सुप्रसिद्ध “भाण्डारकर प्राच्यविद्यासंशोधनमन्दिरि' (319पपकप का 07160181 द८8९१नौ 150 ४प।९ ) की स्थापना हुई बडोदासे प्रस्थान कर हम जव बम्ब््मे चतुमांस रदे थे तव, इस 'संशोधनमन्दिर'के सख्य उत्पादक ओर प्राणप्रतिष्ठापक सखव्गीय प्रो० गुणे ओर श्रीमान्‌ डा ° बेस्वखकर आदि सजनँका एक डप्युटेशन नम्बरईैके जैनसमाजकी मुखाखात लेनेको आया ओर म्रसङ्गवरा हमारा परिचय पा कर उन सजनोनि हमको पूना भानेका निमश्नण दिया चतुमीसके वाद्‌ हम धूमते घूमते पूना पहुंचे वदां उस संस्थाके उदेहयादिका विरशेषावरोकन कर तथा उसके अधिकारमे आनेवाले राजकीय प्राचीनम्रन्थसद्रदका विशाल साहिवयभण्डार-जिसमे हजारों जैन- परन्थोका भी समावेश होता है-का दिग्दशैन कर उस संस्थाके विकासमे हमने भी यथाशक्ति योग देनेका प्रयन्न किया उसके परिणाम हमारी सिति पूनामें निशित हृद वदां, इस प्राच्यविदयासंशोधनमन्दिरके कामँ योग देनेके साथ भारत जेन विद्याख्यः नामकं संसथाका भी एक विशाल आयतन खडा किया गया सन्‌ १९१८ मे, पूनाके उक्त संशोधनमन्विरके उपक्रमसे भारतीय पुराविदोकी परिषद्का प्रथम अधिवेशन (178४ 071९४९। (09९०९) हज उसर्मे सम्मीछित होने बे कुछ ॒विदाप्रिय ओर सािलयोपासक जैनमिरत्रोको प्रेरित कर, हमने फिर अपने उसी संकस्पको कार्यम प्रषृत्त करनेका एक नया आयोजन फिया सैन साहित्य संशलोधक समिति नामक एक समिति का प्रतिष्ठापन कर कुछ परिचित जेहिगणकी सायतासे सैन साहित्य संश्नोधक नामका बहदाकार त्रैमासिक पत्र तथा ग्रन्थमाला प्रकारित करनेका प्रारंभ किया परंतु यथेष्ट साहाय्यादि प्राप्त होनेसे यथेप्सितरूपमे बह कराये आगे बढ सका

पेम रहते समय, हम स्वर्गाय ोकमान्य तिरक ओौर महात्मा गांधी आदि महापुरुषोका भी साक्षात्‌ परिचय हुआ ओर हमारे जीवनमागैमे विशिष्ट परिवर्तन घटित हुआ निस वेषकी चयाका आचरण हमने युग्धभावसे बाल्यकाल ही मेँ स्वीषृेत किया था उसके साथ हमारे मनका तादात्म्य शेनेसे, हमारे मनम, अपनी जीवनप्रषृत्तिके विषयमे एक प्रकारका बडा भारी आन्तरिकं असन्तोष बढता जाता था अन्तरम वास्तविक विरागता होने परमभी केवर बाहयवेषकी विरागताके कारण लोकों दारा वंदन-पूजनादिका सन्मान प्राप्न करनेमे हमे एक प्रकारकी वंचनां प्रतीत होती थी इस जिय गुरुपदके भारसे मुक्त हो कर फिसी सेवक पदक! अनुसरण करनेका हम मनोरथ कर रषे थे ओर अपनी मनोवृत्तिके अनुकूख सेवाका उपयुक्त क्षेत्र खोज रहे थे

सन्‌ १९२० मे, देश्की मुक्तके यि महात्माजीने असहयोग आन्दोखनका मंगलाचरण किया ओर उसीके अयुसन्धानरमे, रा्टीय शिक्षणके प्रचार निमित्त, अदमदावादमं गूजरातविद्यापीठकी स्थापनाका आयोजन हभ मित्रोकी प्रेरणा ओौर महात्माजीकी आज्ञासे प्रेरित होकर हम पूनासे अहमदाबाद पहुंचे ओर बहा, अपनी मनोृत्तिके शनुरूप कायक्षेत्र पा कर, एक सेवककरे रूपमे, मूजरातविद्यापीटकी सेवामें सम्मीकित हुए

वि्ापीठने, अन्यान्य वि्ामन्विरोके साथ प्राचीन साहिल ओर इति्टासके अध्ययन ओर संशोधनके यि पुरातत्वमन्दिर नामक एक विरिष्ट संस्थाका निर्माण किया ओर उसके मुख्य-आचायै-पद पर हमारी नियुक्ति कर हमको अपने अभीष्ट श्ेत्रमे काये करनेका परम सुयोग दिया पुरातत्त्वमंदिरिके सञ्ालनमें हमें अध्यापक श्रीयुत रामनारायण पाठक, अ० श्रीरसिकलार परीख, पंडितप्रवर श्रीसुखलाख्जी आदि सहृदय मित्रोंका प्रारंभ ही से हार्दिक स्टचार मिखा ओर इनफे स्कार ओर सहविन्नारसे शीघ्र ही एक ॒पुरातत्तवविषयक म्रन्थावलि प्रकट करनेकी योजना हाथमे री गई 'गूजरातपुरातच्व मन्दिरः एक रष्टीय संस्था थी इस लिये उसका का्यचेत्र राष्टीय दृष्टिको

,

रे कर निश्चित करना आवश्यक था अत एव उस संस्थाके हारा एेसे साियका निमाण ओर प्रकाशन करना समुचित था जो किसी एक ही सम्प्रदाय या साम्प्रदायिक साष्िल्यका पोषक हो कर समूचे भारतीय संस्छृतिका पोषक हो तदर्थं जेन, बोद्ध, वैदिक ओर इस्छामिक साहिलयको भी उसफे कायं कषेत्रम सम्मीकित किया गया ओर उसी टृष्टिसे पुरातक्त्वमन्दिर ग्रन्थावली का प्रकाशन चाद्ध्‌ किया गया प्रासंगिक पुस्तकोके सम्पादनफे अतिरिक्त, हमने अपने ययि तो बही पुराना संकर्पित कायै, मुख्य रूपसे मनम निश्चित कर रखा था; ओर उसीके अनुसन्धानमे सवसे प्ले हमने इस प्रबन्धचिन्तामणि की एक सुसम्पादित आवृत्ति तैयार करनेका ओर उसके साथ, इसीकी पूर्तिरूप, प्रबन्धकोष, कुमारपारप्रबन्ध, वस्तुपारचरिप्र, विमलप्रबन्ध आदि प्रथ; तथा शिरालेख, ताम्नपत्र, भ्रन्थप्रशसिः- इत्यादि अन्यान्य प्रकारके गूजरातके इतिहासके साधनभूत संग्रह की संकलना करनेका उपशम किया

प्रबन्धचिन्तामणिका जो संस्करण, आजसे ४५ वषै पहले, शास्री रामचन्द्र दीनानाथने प्रकाशित किया था, षद्‌ यद्यपि उस जमानेके मुताविक ठीक था, लेकिन आधुनिक दृष्टिसे वह्‌ बहुत दी अपूर्ण ओर अदुद्ध है उसकी पाठ- शुद्धि ठीक नीं है, मोकिक ओर प्रक्षिप्न पार्ठोका उसमे कोड प्रथक्षरण नहीं हे ओर कष पयोंका-विरोपकर प्राकृत पर््योका-रूप बडा विकृत कर दिया है कुछ तो पुरातन छिपिविषयक अक्ानता, कुछ एेतिद्ासिक क्ञानविपयक अल्प- कशता, कुछ सांप्रदायिक परंपराविपयक अनभिज्ञता ओर कुर प्राकृतारि भाषा विषयक अपरिचितताके कारण उनके संस्करणमें बहुतसी त्ुदियां रह गई, जिससे प्रंथका सुस्पष्ट खरूप समश्चनेमे कठिना पडती है इस छिये सबके पष्टटे हमने इस भंथकी पाटद्युद्धि करनेके जिये जैन भण्डारोमिंसे पुरानी प्रतियां प्राप्न करनेका प्रयन्न करिया यथारभ्य प्रतियां मिल जानेपर प्रंथकी प्रेसकापी तैयार की गई ओर कुछ हिस्सा छपनेके छिये प्रेसमे भी दे दिया गया छपनेका कार्य प्रारंभ हो कर प्रन्थके दूसरे प्रकाश तकका हिस्सा जव मुद्रित हो चुका था, तव, कटैएक कारर्णोको ले कर, हमारा युरोष जानेका इरादा हुआ सोचा था कि वहां बेठे वेठे मी इस प्रंथका सुद्रणकायं चालू रह सकेग। ओर युरोपसे लौटते तक ग्रन्थ पूरा ष्टो जायगा तो फिर तुरन्त आगेका काम प्रारंभ कर दिया जायगा इस ल्यि हमने इसकी प्रतियां मी वहां (जर्मनीमे) जा कर मंगवा ठी ठेकरिन युरोपके सामाजिक ओर ओद्ोगिक वातावरणने हमारे मनको अपने आजीवन- अभ्यस्त विषयसे विचलित कर दिया इन पुरानी वार्तोकी खोज-खाज करनेके बदले वहके जो वर्तमान राष्ीय, सामाजिक ओर ओद्योगिक तंत्र उनका विरोषावलोकन कर किसी एक सजीव प्रवृत्तिमे संटम्र दोनेके तरंग हमारे मनमें उठने रगे ओर उसी दिशामे कुछ काये करनेके विचारोसे मन ग्यस्त रहने लगा सवव इसके, वहां पर यैठ कर जो, इस प्रंथका मुद्रणकाय समाप्त कर देनेका संकल्प यासे करके निकटे थे, वह पुरा नहीं हो पाय।

सन्‌ १९२९ के डीसेंबरमे हम वापस भारत आये उस समय, लाहोर कप्रिसके प्रोत्रामके मुताबिक देष्षमे नये विचार्योकी कान्तिसृुचक लर उठ रही थीं एक तो स्वयं युरोपसे मस्तिष्कमे कुछ न्ये विचार भर कर लये थे ओर दूसरा यहां पर भी उसी प्रकारका भिन्नकार्यसूचक प्रशरुव्ध वातावरण धनीभूत हो रहा थ। गूजरात विद्यापीठमे भी विद्याका वातावरण होकर सयाग्रही युद्धका ही वातावरण गूज रहा था इस लियि इस प्रन्थके, उस अधूरे पडे हुए कायेको तत्का हाथमे ठेनेकी कोई इच्छा नहीं होती थी आखिरमे सलयाग्रह-सं्राम छिड ही गया ओर दशके सब ही सेवर्कोकी तरह, हम भी यथाक्रम मासके छियि नासिकके शान्तिदायक समाधिविधायक कारागरमें जा पहुंचे सचयुच ही नासिकके सेंटूर जेरुखानेमे जो चित्तकी शान्ति ओर समाधि अनुभूत की वह्‌ जीवनमें अपूर्वं ओर अरूभ्य वस्तु थी वह जेलखाना, हमारे ण्यि तो एक परम शान्त ओर शुचि विद्या-विहार बन गया था ¦ उसकी स्मृति जीवनम सवसे बडी सम्पत्ति माट्टूम देती दै खनामधन्य सेठ जमनादारखजी वजाज, कर्मवीर श्रीनरीमान, देकप्रेमी सेठ श्रीरणछोडभाई, सादियिकधुरीण श्रीकन्दैयालाट मुंशी आदि जैसे परम सजनोंका घनिष्ठं सम्बन्ध रहनेसे ओर सबके साथ कुछ विद्या-विपयक चचा ही सदैव चरती रहनेसे, हमारे मनम वे ही

पुराने साहियिक संकल्प, वहां फिर सजीव होने छग सहवासी भित्रगण भी हमारी रचि ओर शक्तिका परिय रप्र कर, हमको उसी संकर्पित कायैमे विशेष भावसे रगे रहनेकी सडाह देने कगे मित्रवर श्री्युशीजी, जो गूज- रातकी अस्मिताके सर्वश्रेष्ठ प्रतिनिधि है ओर जो गूजरातके पुरातन गौरवको आवाल-गोपा तक हृदर्यगम करा देनेकी महती कला-विभूतिसे भूषित है, उनका तो दढ आग्रह ही हुआ कि ओर सब तरंग छोड कर वही कायं करने ही से हम अपना कर्तव्य पूरा कर सकते हँ अन्यान्य घनिष्ठ मिर््रोका भी यही उपदेश हमे वां वैठे बैठे वारंवार भिरने र्गा ओर जेखखानेसे मुक्त होते ही हमे वही अपने पुराने बही-खाते टटोलनेकी आज्ञा मिलने छगी

संवत्‌ १९८६ के विजयाव्शमीके दिन, मित्रवर श्रीयुंशीजीके साथ ही हमें जेरसे मुक्ति मिली हम बम्बर हो कर अहमदाबाद पहुंचे यद्यपि जेकखानेके उक्त वातावरणने मनको इस कायैकी तरफ बहुत कुछ उत्तेजित कर दिया था, तो भी देशकी परिध्ितिका चाद क्षोभ, रह रह्‌ कर मनको अस्र बनाता रहता था अखिरमें श्रीमान्‌ बाबू बहादुरसिहजी सिंघीका, शान्तिनिकेतन कर जेन साहियके अभ्ययन-अध्यापनकी व्यवसा हाथमे ठेनेका आग्रह पूर्ण आमंत्रण मिरनेसे, ओर हमारे सदैवके सहचारी परमबन्धु पण्डित प्रवर श्रीसुखलार्जीकी भी तद्विषक वैसी ही आज्ञा होनेसे, हम शान्तिनिकेतन पटु यहां विश्वभारतीके ज्ञानमय वातावरणने हमारे मनको एकदम उसी ज्ञानोपासनाभे फिर सिर कर दिया ओर हमारी जो वह चिर संकट्पित भावना थी, उसको यथेष्ट समुत्तेजितकर दिया। साथ ही मे, उस संकल्पको कायम परिणत होनेके ण्ये, जिस प्रकारकी मनःपूत साधन-सामग्रीकी अपेक्षा, हमारे मनमें गूढ भावसे रहा करती थी, उससे कहीं अधिक ही विरिष्ट सामग्री, सश्चरित्र, दानशीर, विद्यानुरागी श्रीमान्‌ बहादुर सिंहजी सिघीके उत्साह, ओदायै, सौजन्य ओर सीदादं द्वारा प्राप होती देख कर, हमने बडे आनन्दसे इस सिषी जैन ज्ञानपीठके संचाखनका भार उठाना खीकार किया

यद्यपि, प्रारंभमें हमने इस स्थानक, जैनवाङयका अध्ययन-अध्यापन करानेकी रृष्टिसे ही खीकार किया; छेकफिन हमारे मनस्तल्में तो बही पुराना संकस्प दटा हभ दोनेसे, यदं पर स्थिर होते ही, वह संकल्प फिर सहसा मूर्ति- मान्‌ होकर हमारे हृदयांगणमें नाचने रगा, ओर वदी पुरानी एेतिहासिक-सामम्री, जिसको हमने आज तक, ्युजीकी पुजीकी तरह बडे यन्नसे संचित रख कर बन्दी बना रखी है, हमारे मानसचश्चुके आगे खडी हदो कर, कटाक्षपू्णं टक- टकी खगा कर ताकने र्गी हमारा व्यसनी मन फिर इस कामके छिये पूर्ववत्‌ ही लालायित ओर उत्सुक हो उठा

प्रसङ्ग पाकर हमने अपने ये सब विचार ज्ञानपीठके संस्थापक श्रीमान्‌ बहादुरसिंह वावसे कह सुनाये; ओर श्ञानपीठके साथ एक श्रन्थमाला'भी स्थापित कर जैन साहिलयके रन्नतुल्य विरिष् प्रंथोको, आदकषीरूपसे तैयार कर- करवा, प्रसिद्धिमे लानेका प्रयत्न होना चाहिए, इस वारेमे सहज भावसे प्रेरणा की गई इन बार्तोको सुनते दी सिंधी- जीने, उसी क्षण, बडे ओदायैके साथ, अपनी सम्पूणं सम्मति हमें प्रदान की ओर ठेसी ्रथमाखा' के प्रारंभ करनेका ओर उसके छिये यथोचित द्रग्यग्यय करनेका यथेष्ट उत्साह प्रकट किया सके परिणाममे, सिघीजीके सर्गाय पिता साधुचरित श्रीमान्‌ डाटचन्दजी सिंघीकी पुण्यस्छति निमित्त इस सिंघी जेन म्रन्थमाला का प्रादुभाव हो कर, आज इसका यह प्रथम 'मणिः-केवर्.मणि' ही नदीं “चिन्तामणि!-पाठकोकि करकमलमे समर्पित हो रहा है हस प्रंथके पूवं सस्कारणादिका परिचय.

विदेशीय विद्धानोमि, सबसे पले इस भ्न्थका परिचय, किन्छोक फास साहबको हुआ जिन्दोँने गूजरातके इति- हासका रासमाला नामक सबसे पदा ओर अनेक बा्तोमे अपूर्व प्रन्थ ठखिखा। रासमाटा के यि रेतिहासिक सामभरी इकद्री करनेका उपक्रम, जब फावेस सादहबने श्रू किया तव, प्रारम्भही मे उन्हें वीरचन्द्‌ भण्डारी नामक एक शिक्षित जेन गृहस्थका अमूर्य सहकार मिख गया, जिसकी सदहायतासे उन्ह गूजरातके पाटणके किसी जैनयतिजीके पासः प्रस्तुत प्रन्थकी एक प्रति प्राप्न हो गई रासमाराके पूर्वभागके प्रणयनमें प्रबन्धचिन्तामणिसे बहुत कु सदायताली

गई दै इतन ही नहीं लेकिन उसका सारा ही सारभूत पेति्ासिक कठेषर प्रायः इसी प्रन्थके आधार पर खड़ा किया गया दै

फास साहबको जो पोथी पाटणसे मिली थी वह उन्होने वम्बद्की “फास साहिय सभाको भट दे दी ठेकिन पीरेसे वह पोथी वहांसे दयप्र हो गई बम्बई सरकारने जब, अपना पुरातन साियके अन्वेषण ओर संग्रह-करणका कार्य श्रू किया, तव ॐा० व्युल्हर ओर प्रो पीटसेनको इस प्रन्थकी प्राप्ति करनेकी बड़ी उत्कंठा हृ बहुत छु परिश्रम करनेके वाद, सन्‌ १८७४ मे भटनेरके जेनम्रन्थभण्डारमे; इस प्रन्थकी प्रति डा० ब्यु्हरके देखनेमे आई, जिसकी तुरन्त नकल करवा कर उन्दने ठंडनकी इन्डिया ओफिस लात्ररीको मिजवा दी सन्‌ १८८५ म, भरो० पीटसनको इसकी प्रति प्राप्न हुई जिसके बारेमे, उन्दने, अपनी पुस्तकविषयक खोज वाली दूसरी रीपोरं ( एर ८६-८७ ) मँ इस प्रकार, इस पर, उषे किया है-

“इस प्रकार जल्दीमे कयि गए इन उदेखोके अंतमे, कहना चाहिए कि-वधैके आखिरी भागम, मेरतुङ्गरचित प्रबन्धचिन्तामणि भंथकी प्रति प्राप्न करनेमे सफर हुआ हूं यह महत््वका रेतिहासिक भ्रन्थ बडा उपयोगी दै अपने म्रन्थसंग्रहमे शस म्नन्थकी वृद्धि करनेका बहुत समयसे हमारा प्रयत्न रहा ।” इयादि

यह्‌ प्रति बम्ब सरकारके प्रन्थसंम्रहमे-जो वर्तमानमें, पूनाके भांडारकर प्राच्यविद्यासंशोधन म॑दिरर्मे, सुरक्षित है-अद्यापि वियमान

इसके सिवा, ङा च्युद्हरको एक ओर प्रति, उमाशंकर याक्लिक नामके गूजरातके किसी शाखी हारा प्राप्त हु, जिसकी भी नकर करवा कर, उन्दने उक्त इन्डिया ओंफिस खादतरेरीमे भिजवा दी

पीटसंन साहब द्वारा प्राप्न हुई उक्त पूनावाली प्रतिको देखकर, गूजरातके पं० रामचन्द्र दीनानाथ शास्मीको, जो पीटसेन साहवके निरीक्षणमे सहायक रूपसे काम करते थे, इस प्रन्थको मुद्रित कर प्रकारित करने की इच्छा हुई प्रयत्न करनेसे उनको, उन्त प्रतिके सिवा, दो-तीन अन्य प्रियां भी जैन उपाश्रयोमेसे मिट गरदं थी जिनका आश्रय ले कर उरन्दोनि आपना संस्करण, विक्रम संवत्‌ १९४४ मेँ, प्रकट किया रामचन्द्र शासख्रीने इस म्रन्थका गूजराती भाषान्तर भी तैयार किया ओर उसको भी सं० १९४५ में छपवाकर प्रसिद्ध किया

इतिहासकी टृष्टिसे इस अंथका बडा महत्व होनेसे, इसका दग्रजी भापाभे अनुवाद्‌ करनेकी आवश्यकता व्युर्ह॒रको माम दी; इस लिये उन्होने, संस्कृत र्थोके इपेजीमे अनुवादं करनेवाटे सिद्धहस्त विद्वान्‌ प्रो० सी. एच्‌. रानी. एम्‌. ए. को, इसका अलुवाद करनेकी प्रेरणा की तदनुसार रानी सादहवने बडे उत्सहसे इस प्र॑थका सम्पूर्ण दप्रजी अनुवाद तैयार किया, ओर कटकत्ताकी एसियारिक सोसायटी ओव बंगार्ने उसे प्रकारित क्रिया

टनी सावका मुख्य आधार, उक्त रामचन्द्र शाखीद्रारा प्रकारित आर्ति पर ही रहा, परंतु उन्दने उपयुक्त ङां° व्युल्ह्रवाली तथा प्रो० पीटसनवाली दस्तछिखित प्रतियोंका भी कुछ कुछ पुनरुपयोग करिया ओर करीं कीं ठीक अर्थायुसन्धान प्राप्न करनेकी चेष्टा की। टोनी साहवके मुकाबलेमे, रामचन्द्र श्षासीका गुजराती भाषान्तर सर्वथा निरुपयोगी ओर असम्बद्धप्राय माद्टूम देता है

प्रस्तुत आडृत्तिके सम्पादनमें प्रयुक्त सामग्री.

जिन प्रतिर्योका उपयोग हमने इस आदृत्तिमे किया है उनका संकेतपूर्वक परिचय इस प्रकार है

(१) +^ अहमदावादके डेलाका उपाश्रय नामक प्रसिद्ध जैन उपाश्रयमे सुरश्चित जैन प्रंथभण्डारकी संपूर्णं प्रति [ डिव्या नं. ३०; प्रति नं. २४ ] इसको हमने ^+. भक्षरसे संकेतित किया हैः इस प्रतिके ५३ पत्र है जो दोर्नो तरफ छिखि हुए प्रतिके अन्तम इस प्रकार संक्षिप्त पुष्पिका ठेख है-““सं ° १५०९ वर्प फागुणसुदि वार रवौ

प्रबन्ध, 3

(८ (० १५४ | + ^

+

9

रक्लीं थी इन प्रतिर्योके पाठोंको मी दमने कीं कहीं संगृहीत किया है ओर उनका क्रमानुसार 729. 129. 72०. 74. हययादि अक्ष्योसे निर्दे किया है

(६) २५ पाटणके संघके भण्डारकी [ डिव्वा नं. ५०, प्रति नं. ] एक प्रति जिसमे सि प्रबन्धविन्तामणिगत ` श्ुंजभोजप्र्॑धःलिखा हुआ है वास्तवमे यह प्रति है तो राजशेखरसूरिरचित श्रवन्धकोषः की, ठेकिन इसके अन्ते प्रबन्धचिन्तामणिका उक्त प्रबन्ध भी ठिखा हुआ है इस प्रतिकी कुर पत्र संख्या १०५ जिसमे १से ९१ पत्र तक प्रबन्धकोष रिखा हआ है ओर शेषके पर््रोमिं उक्त प्रबन्ध है यह्‌ प्रति बिक्रम संवत्‌ १४५८ मेँ रिखी गई थी इसके अन्तका पुष्पिका ठेख इस प्रकार है-

““इति श्रीमेरुतुङ्गाचायेविरचिते प्रबन्धचिन्तामणौ श्रीभोजराजश्रीमीमभूपयोनौनावदातवर्णनो नाम द्वितीयः प्रकाशः भं० ४६४ श्रीः संवत्‌ १४५८ वपे प्रथम भाद्रपद्ुदि ११ एकादहयां तिथौ बुधवारे श्रीसागर- तिरुकसूरिणा स्वरिष्यपठनार्थं श्रीअणदिख्पुरपत्तने प्रबन्धानि राजशेखरसूरिविरचितानि आछिरिखि ॥”

यद प्रति प्रायः सुद्ध ओर बहुत सुन्दर अक्षरोमे लिखी हुई है इसका उपयोग हमने मुज ओर भोजप्रषन्धवाछे भागे किया ओर हसे 2० अक्षरसे सूचित किया है

(७) ?! पूनाके उक्तं राजकीय संग्रमे, नं. ४५०, सन्‌ १८८२-८३, की एक प्रति है जिसमें सिर्फ प्रथका दवितीय प्रकाश्च-भोज-मीमभूपवर्णन नामका-णिखा हुआ है इसके प्रान्तमे ठेखक आदिका कुछ निर्देश नहीं है अयमान ३०० वर्षं जितनी पुरातन होगी इसके कुर पत्र १९ जिनमें १२ वां पत्र अप्राप्त है इसका पाठ साधारण हैः ठेकिन प्रबन्धान्तगेत वरण्नोका क्रम-निपयैय ओर न्यूनाधिक्य बहुत अधिक पाया जाता है इसका सूचन हमने के संकेतसे किया है

(८) इस मन्थके आदिके दो प्रकारावाली प्रति, पाटणके तपागच्छके भण्डारभेसे मिली [ डिग्वा ने. ५७, प्रति नं. ५७ ] जिसके कुरु १६ पत्र है यद्‌ प्रति सं० १५२० फी र्खिी है इसका अन्तिम पुष्पिका ठेख इस प्रकार है-

“संवत्‌ १५२० वरं श्रावणञ्युदि १२ दिने तपागच्छनायक श्रीरश््मीसागरसूरिरिष्य पं० श्ञानहर्षगणिपादानां सा० सोनाकेन भा० रूड़ी प्रमुख कुटुंबयुतेन श्ीसिद्धांतभक्या टिखापितं श्रीसंघस्य कल्याणमस्तु ।॥ श्रीः ॥”

इस प्रतिका पाठ प्रायः ^+ आदशेके समान है इस णिये इसको हमने को खास संज्ञा नहीं दी ओर सम्पादनं को बिरोष सदायता भी इससे नदीं ली गई

(९) पाटणके रपरवाठे ही भण्डार्मेसे, पत्र संख्या १७ की एक प्रति [ डिव्वा नं. ६६, प्रति न. ११२ ] जिसमे, उपयुक्त ८४ आदशेकी समान, सिफै सुज-भोजप्रबन्धका दिस्सा छिखा हुआ है इसका पाठ भी उपरवाछे नं. सूचित आद्ेके समान ही पाया गया; इस जणियि इसका मी कोई नाममिरदेश करना आवदयक नहीं समक्ना

(१०) भरो° सी. एच्‌. टनीने जो इस प्रेथका इजी भाषांतर किया है उसमे उन्दनि, मूल प्रे पाठका संशोधन करनेका मी कुछ प्रयत्न किया है; ओर शास्ली रामचन्द्रकी मुद्रिव आवृत्तिके साथ, पूनावाली प्रतिका तथा ठंडनकी इन्डिया ओंफिसकी डा ° व्युल्हरवाली प्रति्योका भी उपयोग कर कुछ पाठभेद, अपनी पुस्तककी पाद्‌-रिप्पनीयोमिं श्त कयि लेकिन वे सब पाठभेद प्रायः हमारे इन संगृहीत आदशेमिं जाते हस जयि हमने उनका पृथक्‌ संकेतके साथ कोर निर्देश करना उपयुक्त नही समस्चा प्रा आद्छोका वर्गीकरण

इस प्रकार दमारे पास यह आदुदी-सामप्री उपयित हृ उसका परीक्षण करने पर हम इसके वगे मादम विये खा वगे, 4 आदकषेका है जिसकी समानता प्रायः 2०, 1), 7 भौर 72५ आदृशमिं पाई जाती हे

रा वरै, 5 आदृश्षेका है जिसकी समानता 12 ओर 124 आदश्षकि साथदहै। रा वर्ग, ओर 7) का; ओरष्टेथा वगै, कादौ

इन वर्गमिंसे परे ओौर दूसरे वगम तो परस्पर विदोप करके कुछ शब्दों ओर प्रतिशब्दोका ही पाठभेद है ओर छठ थोडेसे पर्योकी न्यूनाधिकता मिर्ती है रा व, भोजप्रवन्धवाले प्रक्र्णोमिं कु विष रूपसे भेद प्रदर्शित करता है इसमें भी 2, आदशंकी अपेक्षा 79 आदश अधिक भिन्न है इसमे कई प्रकरण, अन्यान्य आदरेकी उपेक्षा आगे-पीछे छ्खि हए मिलते इतना ही नहीं परंतु वे न्यूनाधिकरूपमे भी मिरते है

सञ्ज्ञक आदद की विरोषता,.

था वगै जो आदशेका है बह एक विषयमे सवसे भिन्नता ओर विरिषटता रखता है इस आददीमें सिद्धराज, कुमारपार, वस्तुपार-तेजपार ओर अन्यान्य व्यक्तिर्योके प्रशंसात्मक जो पद्यसमूह्‌- सोमेश्वरदेव रचित कीर्तिकौमुदी नामक कान्यमेंसे-तत्तत्खरों पर, उद्धृत करिया गया है वह अन्य किसी भी आदम उपल्व्य नहीं है इन पर्योकी संख्या कोई सव मिला कर १२० है इतनी बडी पद्यसंख्याका इसमें प्राप्न होना; ओर, दूसरे सव आदर्शोमिं उसका सर्वथा अभाव मिखना; एक बहुत बडी समस्या उपस्थित करता है क्या ये पद्य स्वयं प्रथकारने, पहले या पीछे, उदुत क्ये या किसी अन्य ठेखकद्वाययेप्रक्षित्र ?। प्रंथकार स्वयं यत्र तत्र फेसे बहुतसे पर्योका अबतरण करनेमे खूब अभ्यस्त हैँ, यह तो, उनके इस मरंथका अवलोकन मात्र करने ही से, निर्विवादरूपसे, मान ठेना पडता है सोमेश्वर्देवकी कीर्तिकोसुदीमेसे भी इसी प्रकार उद्धृत करिये हुए दो-एक अन्य पर्योका अवतरण, (देखो ४८, ओर ६३) ओर ओर आदर्योमि भी दिखाई देनेके कारण, प्र॑थकारफे सन्मुख कीर्तिकौमुदी काव्य भी रखा हुआ होगा, इस बातको मान लेने मी को आपत्ति नदीं दिखा देती तो क्या ये सव पद्य भी उन्दोनि ही अवतारित क्यिदहँ१। अगर उन्दौहीनेक्रियि द्ध तो फिर, केवर इस आदर्को छोड कर, ओर ओर आदर्खमिं भी ये क्यों नहीं मिलते ? कोई विरेप साधन जव तक प्राप्त नदीं हो सकता, तव तक इस प्रका निधित उत्तर देना अशक्य दहै तो भी एक अनुमानजोदहमेदोरदादहै उसे पाठकोँके जाननेके जयि यहां निर्दिष्ट करदेतेह। जैसा कि हम उपर, इस £ प्रतिका परिचय देते हर ठिख आये, कि यह प्रति, निस आदृश्षै परसे उतारी गर्दै वह आदश बहुत पुराना होना चाष्िए अतः; आददीके प्राचीन शोनेमे तो हमे विश्वसनीय आधार प्राप्र होता दै इस प्राचीनत्वसे हमारा अभिप्राय सयं म्र॑थकारके समसामयिकत्वसे है यदि यह प्रति, जैसा कि हम अनुमान करते ह, ३-४ सौ वर्प जितनी पुरानी है; तो, इसका मृ आदरो, जो उस समय जीर्णं दशाम विद्यमान होना चाहिए, कमसे कम वह भी २३-* सौ वर्ष जितना पुरातन होना चाहिए यदि यह बात दीक हो तो उस प्राचीन आदशैका समय उतना ही पुरातन हौ जायगा नितना म्रंथकार मेरतुङ्गाचायका दै मेरुतुङ्गा चायको प्रबन्धचिन्तामणिकी रचना समाप्र किये आज ६२८-२९ वर्षं हुए हमारे अनुमानके मुताबिक उक्त प्राचीन आदरौको भी इतने वर्षं तो सहज टो सकते इससे हम यह अनुमान करनेके ल्यि अनुप्ेरित होते दै कि, इस आदशेका जो मू आदद होगा वह खयं मेरुतुङ्गाचायैका, बह आदद होगा, जिसे या तो उन्दने सबसे पहले तैयार किया हो; या सबसे पीठे तैयार किया हो सवसे पहले तैयार करमेका तात्पयै यह्‌, कि पहछे पहर प्रंथकारने, जब प्र॑थकी रचना की, तब उन्होने भ्रसंगप्राप्त कीर्तिकोमुदीके ये सब पद्य, मन्थगत वर्णनमे बहुत उपयुक्त समद्यकर, निपुखताके साथ उद्धृत कर लिय; लेकिन पीछेसे प्रंथका पुनः संशोधन करते समय, इतने प्द्योका, एक साथ एक ही अंथमेसे उद्धरण करना मनम दीक जंचा दहो इस यिये उन्हुं छोड कर, उस संरोधित आधृत्तिकी, ओर ओर नके करवाई गई हों ओर उन्दींका सर्वत्र प्रचार करिया गया हो बह मूक प्रथमाददौ कीं भण्डारमे ज्यो का लों पडा रहा हो, निसके नाककार्मे, इस नि्मान आदृशेके ठेखकने उसका पुनरवतार कर, इस लपरमे, उसे चिरजीवी बना विया हो दूसरा बिकल्य जो

यह कि-या ससे पीछे इस आदषकी सष्टि हृ हो; तो उसका कारण यह ्ो सकता है कि पहला आवशै जो ठीक तैयार हृभा उसकी अनेक नकल तैयार हो कर सर्वत्र प्रचारम आग हँ; ओर फिर पीछेसे, बहुत समयके बाद्‌, भ्र॑थकारने प्रंथके कटेवरको विशेष पुष्ट बनानेके लिये, ये सव पद्य अपनी कोर्ैएक प्रतिमे प्रविष्ट कर उसका एक नवीन ओर परिवर्त संस्करण बनाना चाहा हो; लेकिन उसका फोई विशेष प्रचार होकर वह्‌ ग्योँकि्योँ भण्डारहीमे पडी रही हो ओर उपयुक्त अनुमानाठुसार, 1: आदके रेखकने उसका यदह पुनरवबतार करः छिया हो इन दोनों विकररपोमिंसे कौन विकल्प विरोप वट्वान्‌ दो सकता है इसके जयि भी हमे कछ कर्पना हु है, केकिन उसका यहां पर बिवेचन करना भ्यादह्‌ गौरबरूप हो जायगा, इस लिये आगेके भागँ यथाप्रसङ्ग उसका भी विग्दक्षेन करा दिया जायगा इससे एक यह खास बात भी सूचित होती है, कि दोनों विकल्पोमंसे यदि कोर्एक विकल्प भी ठीक हो सकता दै, तो उस परसे, इस 1> आदुकैका मूखादहषे स्यं प्रथकारका एक आदे था, यद्‌ प्रमाणित हो सकता है

इस ? आद्कषैकी नकल उतारने वाकेन, पुरातन आद्दौकी लिपिको ठीक ठीक नहीं समह्नेके कारण, अश्ररांतर करनेभे बहुत भूरे कीं दँ जिससे इसका पाठ बहुत ङु अशुद्ध बन गया है; तो मी जहां अन्य आदर्शं श्र पाठ मिता टै या अयथोपयुक्त शब्द दिखाई देते दै, वहां इस प्रतिम बहुत शद्ध पाठ ओर समुचित शच्व्‌ उपलन्ध होते टं यह बात मी इस आद्रैके विरिष्ट संशोधित होनेकी सूचना देती हे

पाठ मेदोकि संग्रह करनेकी पद्धति.

पाटभेदोके संग्रह करनेकी हमारी पद्धति यह्‌ है, कि व्याकरण या भापाकी दृष्टिसे जो शब्द शुद्ध माटम देते उन्दी शव्दोका हम संह करते सर्वथा अशुद्ध शब्दोका या व्याकरणकी रृष्टिसे अपरूप पाठका, जेसा कर पध्िमीय विद्वान्‌ करते रहते है, हम संग्रह नहीं करते अथौनुसन्धानसे असंगत मालूम देने पर भी यदि व्याकरणकी दृष्टस शब्दप्रयोग शद्ध मालूम देता है तो उसे हम पाठभेदके रूपमे संगृहीत कर रेते हँ हा, जहां कीं पाठमं बहुत कुछ गडबडी मालूम दे ओर अर्थसंगति ठीक ठे, वहां हम, ठेसे सर्वा अशुद्ध शर्व्योको ओर श्रष्टरू्पोको भी पूर्णखपसे संग्रहीत कर ठेते देद्य विशेषनार्मोके शुद्ध. अद्ुद्ध सव ही रू्पोका संग्रह करना आवश्यक समष्षते

हमारे इस संस्करण सुर्य आधारभूत ^, 7 ओौर आददैके आदि ओर अन्तके पर्बरोका दाफटोन चित्र चनाकर इस पुस्तकके साथ गाये जाते दै, जिससे पाटकगण, इन पुरातन आदरशकी अक्षाराकृति-आदिका दुरान भी भ्रयक्षतया कर सकेंगे

इस प्र॑थकी सम्पूरणं संकलना कैसी होगी; ओर कौन कौन भागम क्या क्या विषय रगे; इसके यिये णक प्रक्‌ प्रष्ठपर पूरा विवरण दे दिया गया दै जिसके अवलोकनसे पाठकोंको आगेके भागांका किंचित्‌ विपय-परिचय हो सकेगा

अन्तम, अहमदावादके उेलाके भण्डारफे तथा पाटणके भण्डारोके संरक्षौका, जिनके द्वागा हमको यद्‌ सामभ्री प्रप्र हो सकी हे, कृतज्ञतापू्णं उपकार मान कर, इस “कंचित्‌ प्रास्तायिकको पूर्णं करते

जिन विजय

वि० सं १९८८, सां वत्सरिक पर्व. |

विश्वभारती. शान्तिनिकेतन

सिधीजेनग्रन्थमारासस्पादकप्रदास्तिः

खसि श्रीमेदपायस्यो देशो भारतविश्वुतः रपादेरीति सन्नप्नी पूरिका तत्र सुधिता सदाचारविचाराभ्यां प्राचीनगृपतेः समः श्रीमचतुरसिहोऽतर रटोडान्वयमूमिषः ततर श्रीवृदधिपिंहोऽमूत्‌ राजपुत्रः प्रसिदधिमान्‌ क्षा्रधर्मपनो यश्च परमारकुलाग्रणीः युञ्ञ-भोजगुखा भूपा जाता यसिन्महाकरुरे कि वर्ण्यते कुटीनल तकुठजातजन्मनः पत्री राजकुमारीति तखामद्‌ गुणसंहिता चातुव -रूप-रावण्य-सुवाक्सोजन्यभूषिता ्परियाणीप्रमापूणा रौयैदीपमुखाकृतिम्‌ यां दैव जनो मेने राजन्यङुलजा वियम्‌ सुनुः किसनर्िंहाख्यो जातस्तयोरतिप्रियः रणम इति चनद यत्गाम जननीकृतम्‌ श्रीदेवीदैसनामात्र राजपूज्यो यतीश्वरः ज्योतिमेषज्यविचानां पारगामी जनप्रियः अ्रत्तपदाताग्दानामायुय॑ख महामतेः सचा्ीद्‌ वृदिर्िहख प्रीतिश्रद्धासदं परम्‌ तेनाथप्रतिम्र्णा तसूनुः खसत्निष रक्षितः, रिक्षितः सम्यक्‌ कृतो जैनमतातुगः दौमाग्यात्त्छिदोबीत्ये गुर तातौ दिवंगतौ सुग्धीमूय ततस्तेन लक्तं सर्वं गृहादिकम्‌ तथा च- पतमिम्याथ देशेषु संसेव्य षहून्‌ नरान्‌ दीक्षितो मण्डितो भूत्वा कृत्वाऽऽचारन्‌ सुदुष्करान्‌ ज्ातान्यनेकराज्ञाणि नानाधमैमतानि मध्यथघ्ृततिना येन तत्वात्वगवेषिणा अधीता विविधा भाषा भारतीया युरोपजाः अनेका रिपयोऽप्येवं प्र-नूतनकाठिकाः येन प्रकाशिता नैका ग्रन्था विदरंपिताः टिलिता ब्रह्मो ठेखा एतिष्यतप्यगुम्पफिताः यो बहुभिः सुदद्वितन्मण्डेश्च सृतः जातः खान्यसमाजेषु माननीयो मनीषिणाम्‌ यख तां विश्रुतिं ज्ञाता श्रीमद्गान्धीमहासमना आहूतः सादरं पुण्यपत्तनात्खयमन्यदा पुरे चाहम्मदाबादे रा्ीयिक्षणाटयः विचापीटमिति स्यातः प्रतिष्ठितो यदाऽभवत्‌ आचार्यतेन तत्रोचै्नियुक्तो यो महदातना विदर्नकृतश्वापे पुरातत््रास्यमन्दिरे वर्षपीणामष्ं यावत्‌ सम्भष्य तदं ततः गत्वा जरमनरा्र यसतत्ससछृतिमधीतवान्‌ तत आगल सहनो राकायै सक्रियम्‌ कारावासोऽपि सम्प्राप्तः येन खगज्यपर्वणि कमात्तस्माद्‌ विनिर्मुक्तः प्राप्तः शान्तिमिकेतने विशववन्धकवीन्दरभीरवीन्द्रनाथमूषिते पिधीपदयुतं जैनज्ञानपीठं यदाधरितम्‌ थापितं ततर सिघीश्रीडारचन्दख सूनुना ्रीबदादुरसिदेन दानवीरेण धीमता स्पयर्थं निजतातख जेनज्ञानप्रसारकम्‌ ्रिष्ितश्च यस्तख पदेऽधिष्ठातृसञ्जके अध्यापयन्‌ वरान्‌ शिष्यान्‌ शोभयन्‌ जेनवाखयम्‌ तस्यैव प्रणं प्राप्य श्रर्िीकुरकेतुना खपितृश्रेयसे चेष ग्रन्थमाला प्रकार्यते विद्रबनकृताहादा सथिदानन्ददा सदा चिरं नन्दवियं सेके भिनविजयमारती

श्रीमेस्वुद्गाचायंविरयितः

प्रवन्धचिन्तामणिः॥

श्रीमेरुतुङ्गाचायविरचितः- प्रन्धचिन्तामणिः।

नमः स्वन्ञायः

रीनाभिभूजिनः पातु परमेष्टी भवान्तकृत्‌ श्रीभारव्योशतुद्धौरसुचितं यतुर्ुली चृणासुपलतुल्यानां यस्य द्रावकरः करः ध्यायामि करावन्तं गुरु न्द्रप्रभं पुम्‌" शस्फान्विधूय षिविधान्सुखबोधाय धीमताम्‌ श्रीमेस्तुङ्गस्तद्थषन्धाद्‌ ग्रन्थ तनोत्यसुम्‌ ।३ रत्राकरात्सद्वरुसम्प्रदायात्प्रषन्धविन्तामणिसुदिधीर्षोः श्रीधमदेवः' शतधोदितेतिष्त्तै' साहाय्यमिव व्यध श्रीगुणचन्द्रगणेहाः प्रषन्धचिन्तामणि नव ग्रन्थम्‌ भारतमिवाभिरामं प्रथमादर्शोऽन्र दरदितवान्‌" शरदां श्चुतत्वान्न कथाः पुराणाः प्रीणन्ति चेतांसि तथा बुधानाम्‌ घृत्तैस्तदासन्नसतां पबन्धविन्तामणिग्रन्थमह तनोमि बुधैः प्रबन्धाः `खधियोच्यमाना भवन्यवहयं* यदि भिश्नमावाः ग्रन्थे तथाप्यत्र सुसम्प्रदायाद्‌ न्ये" चयौ चतुरर्विधेया

[ १. अथ विक्रमाकंप्रवन्धाः ]

१. अन्त्योऽप्याद्यः समजनि गुणैरेक एवावनीशः शौर्योदायप्रभृतिभिरिदोर्वी तले विक्रमाकैः श्रोतु; भत्रामृतसवनवत्तख र्गः प्रबन्धं संिप्योचर्विपुलमपि तं वस्मि किश्चित्तदादो

१) तथाहि--अवन्तिदेदो सुप्रतिष्ठाननामनि नगरेऽसमसाहसैकनिधिर्दित्यलक्षणलक्षितो 15 "कमेविक्रमादिगुणेः सम्पूर्णो" विक्रमनामा राजयुच्च आसीत्‌ पुनराजन्मदारिग्योपद्रतोऽप्य- तिनीतिपरः सन्‌ "परःहातैरप्युपायैरथानतुपल भमानः' कदाचिद्धटटमाच्रमिध्रसहायो रोदहृणावलं प्रति प्रतस्ये त्न तदासन्न प्रयरनामनि" नगरे कुलालस्याख्ये विश्रम्य प्रभातसमये महटमाच्रेण खनित्र याचितः प्राह-"अच्र सखनीमध्यमध्यास्य प्रातः पुण्यश्रावणापूर्व" ललाटं

=--------'-----------------------------~

1 4 शीसर्व०; ) नमः धिये भीस्वामिने नमः। 2 210 जभारल्या०। 3 1)? गुरं चन्द्र०। 4 °प्रभप्रसुं 5 8126-2 भ्रन्थान्‌। 6 8 ग्देवेः। 7 ^) प्रथमोपरोधबृ०। 8 ^ इतौ च; 1) बरतेश्च। 9 ^ नास्ति "नवं! 10 35 ऽत्र निर्मितवान्‌; 1) प्रदर्षिल०; 120 बिनिर्मित०। 11 41) सुधियो० 12 3 भवर्वदषयं 18 13 °दायद््ये; 1) °दायारण्बे; 1)! दायष््टे 14 29 उजयिनीपू्या 15 1) "कमै नास्ति 731)! कमविक्रमादि० 16 120 जादक्चं सकरककाकङापनिरूयो भर्तृहरिवन्धुः, पएतद्विशेषणद्वयं पृषटपामागे छिखितमभिकमुपरभ्यते 17 ^.13 °बरुतः परः शतै 18 13 °थोयुपडम्ममाणः; 1) थौनलम० 19 12९ -एमहृमात्रसहायो 20 21291 प्रवरनगरे 21 सुण्य अवणापूव; 1) पुण्यश्चवणपूर्व; 1) पुण्यभ्रवणात्पूवं

भ्रबन्धचिन्तामणिः [ प्रथमं

करतेन' संस्पहय, हा दैवमित्युदीरयन्‌ घाते पातिते" सति दु्मेतो यथाप्राप्या रत्नानि मतेः वृत्तान्तममु तस्मात्सम्यगवगम्य विक्रमेण तदहैन्यं कारयितुमक्चमस्तान्युषकरणानि सहादायः रन्नखननाभ खनीमध्ये प्रहारोच्यतं विक्रममभिदघे--“त्‌' कश्चिदवन््याः समागतो वैदेशिकः शख गृङुरालोदन्त ण्षटो भवन्मातुः पथ्वत्वमाचख्यौ' तत्तसवञ्रद्चीनिभं वचो निशाम्य ललाटं 5 करतलेनारत्य, हा दै वमित्यु्रन्‌ खनिच्रं करतलाचिक्षेप तेन खनिच्राग्रेण विदारितायां सुषि देदीप्यमानं सपादलक्षमुल्यं रत्न प्रादुरासीत्‌" ` नटमाच्रस्तदादाय विक्रमेण सह प्रलयाद्त्तः तच्छोकदाङ्कराङ्कापनोदायः खनीगृत्तान्तज्ञापनपूवे' तत्कालमेव मातुः कुरालमुक्तवान्‌ विक्रमः” सहजां लोष्ट मतां बि्धरय मटमाश्रस्य क्रुधा तत्कराद्रन्नमाच्छिद्य पुनः खनी कण्ठे प्रातः

२. धिग रोहणं गिरिं दीनदारिथत्रणरोहणम्‌ ' दत्ते हा दैवमिन्यक्ते रलान्यथिजनाय यः

10 इत्युदीयं सकललोकप्रतयक्षं तत्रैव तद्रलसुत्खछज्य पुनर्देरान्तरं “"परिभ्राम्यन्नवन्तिपरिसरे" प्राः पटुपटष्टध्वनिमाकण्यं “वृत्तान्तमवबुध्य तं छुक्तवान्‌ तेन समं राजमन्दिरे समायातः तस्मिन्नेवाप्षटे सुदत्तं अहोराच्रपमिते राज्ये सचिचैरभिषिक्तो दीर्घदर्दितयेति दध्यौ--यदस्य राज्यस्य प्रयः“ कोऽप्यसुरः सुरो षा द्धः सन्‌ प्रतिदिनमेकैकं पं संहरति। खपाभावे च” देराविनारं करोति। अतो भक्त्या” शक्ट्या वा तदनुनयः ससुचित हति-नानाविधानि मध्यमो.

15 ज्यानि" निमाप्य,” प्रवोषसमये चन्द्ररालायां स्वमपि सल्